April 21, 2024
बीजशोधन भूमिशोधन की कृषकों

बीजशोधन भूमिशोधन की कृषकों, को दी जानकारी

बीजशोधन भूमिशोधन की कृषकों, कृषकों को 15 जून तक किया जायेगा जागरूक

ललितपुर। 16 मई 2022 से 15 जून 2022 तक जनपद में संचालित बीजशोधन एवं भूमिशोधन अभियान के अन्तर्गत कृषि विभाग के कर्मचारियों द्वारा जनपद के सभी विकास खण्डों के विभिन्न ग्रामों जैसे जिजयावन, खांदी, बिलाटा, बानपुर, थाना, कुआगाँव, पठागौरी, छिपाई, मिर्चवारा, धौजरी, कलोथरा, कंधारीकलाँ, हजारिया, सरखडी, खैरपुरा, बारई, बारयों, भावनी, डगराना, चन्दावली, कनपूरा, बार, अजनौरा, मोगान, सूरीखुर्द, भैसाई, गुढा मडावरा, बरेजा, ऐरावनी, चन्देरा एवं सूनौरा आदि ग्रामों में खरीफ वर्ष 2022 की फसलों जैसे मूंग, उर्द, तिल, सोयाबीन, धान एवं मक्का आदि की बुवाई हेतु बीजशोधन एवं भूमिशोधन करने सम्बन्धी जानकारी कृषकों को दी गयी।

गौबर की खाद का प्रयोग अति उत्तम

साथ ही कृषकों को बताया गया की मई-जून की गर्मी में भूमि की गहरी जुताई करने से कीट, रोगों के भूमि में पडे शिशू, अण्डा, प्यूपा, लार्वा आदि नष्ट करने, अच्छी तरह से सडी हुई गौबर की खाद का प्रयोग, उन्नत किस्म के बीजो का प्रयोग, फसल चक्र अपनाने एवं विभागीय योजनाओं आदि के बारे में विस्तृत जानकारी कृषकों को दी गयी। कृषकों को बीजशोधन के बारे में बताया गया की बीज उपचार के लिए बीजो को बोने से पूर्व ट्राईकोडर्मा हारजेनियम 4-6 ग्राम मात्रा, किलोग्राम बीज अथवा कार्बेन्डाजिम 2-2.5 ग्राम मात्रा, किलोग्राम बीज अथवा थीरम 2 ग्राम मात्रा, किलोग्राम बीज की दर से फसल बोने के पूर्व बीज के साथ मिलाकर उपचारित करके ही बुवाई करे।

बीज की बुवाई से पूर्ण साफ-सफाई शोधन करें कृषक

यदि किसान भाई अपने घर पर रखे हुये बीज की बुवाई करना चाहते है तो बीज की अच्छे से साफ-सफाई करके छोटे एवं टूटे हुये बीजो को अलग कर, साफ एवं बडे आकार के बीजों को बोने से पूर्व किसी भी फफूंदीनाशक, कीटनाशक रसायन से उपचारीत करके ही बुवाई करें। साथ ही बीज की बुवाई से लगभग एक सप्ताह पूर्व बीजो का अंकुरण परीक्षण अवश्य करके देख ले। बीजशोधन से मूंग, उर्द, तिल एवं सोयाबीन में बीज सडन रोग, उकठा रोग, पत्ती धब्बा रोग, तना सडन रोग, मूंगफली में टिक्का रोग के साथ ही धान एवं मक्का में पत्ती धब्बा रोग, झुलसा रोग एवं तुलासिता रोग आदि लगने की सम्भावना कम से कम रहती है। इसी प्रकार आगे अन्य ग्रामों में भी कृषकों को बीजशोधन एवं भूमिशोधन सम्बन्धी जानकारी दी जा रही है।

रोग नाशक रसायनो का छिडकाव करें

भूमिशोधन के लिए 2.5 किलोग्राम ब्यूवैरिया बैसियाना को 60-65 किलोग्राम गोबर की खाद में मिलाकर तथा 2.5 किलोग्राम ट्राईकोडर्मा हारजेनियम को 60-65 किलोग्राम गोबर की खाद में मिलाकर किसी छायादार स्थान के नीचे भीगे हुऐ टाट के बोरे से ढककर प्रतिदिन थोडा-थोडा पानी, नमी बनाये रखने हेतु छिडकते हुऐ बुवाई से 10 दिन पूर्व भूमि मे मिलाकर प्रति हैक्टेयर की दर से भूमिशोधन करें। जिससे कीट एवं रोगों का नियंत्रण हो सके। साथ ही खडी अवस्था में फसलों मंे अनेक प्रकार के कीट, रोग लगने की सम्भावना होती है, इसके लिए किसान भाई समय-समय पर फसलो की निगरानी करते रहे तथा उचित प्रकार के कीट, रोग नाशक रसायनो का छिडकाव करें।

दिये गये नम्बरों पर समस्या बतायें कृषक

कृषकों को बताया गया कि कृषि विभाग उ0प्र0 के कृषि रक्षा अनुभाग द्वारा फसलों में कीट, रोग सम्बन्धी समस्या के समाधान हेतु सहभागी फसल निगरानी एवं निदान प्रणाली (पीसीएसआरएस) प्रणाली संचालित है। इसमें विभाग द्वारा दो नम्बर 9452247111 एवं 9452257111 दिये गये है। इन नम्बरों पर आप अपना कृषक पंजीकरण नम्बर या अपना नाम, ग्राम का नाम, विकास खण्ड, जनपद का नाम एवं फसल में लगने वाले कीट, रोग का नाम, लक्षण, फोटो सहित विवरण उपरोक्त नम्बरों पर एस0एम0एस0, व्हाट्सअप के माध्यम से भेजकर अपनी समस्या का समाधान 48 घण्टें में प्राप्त कर सकते है।


hi.wikipedia.org

शरीर में पसीना आना, आखिर क्यों आता है

LEN NEWS

नमस्कार दोस्तो ! मैंने यह बेवसाइट उन सभी दोस्तों के लिए बनाई है जो हिंदी राष्ट्रीय खबरें, उत्तर प्रदेश की खबरें, बुन्देलखण्ड की खबरें, ललितपुर की खबरें, राजनीति, विदेश की खबरें, मनोरंजन, खेल, मेरी आप सबसे एक गुजारिश है कि आप सब मेरे पोस्ट को शेयर करें, कमेन्ट करें और मेरी वेबसाइट की सदस्यता लें, आगे के अपडेट के लिए इस बेवसाइट में बने रहें, धन्यवाद। Arjun Jha Journalist management director Live Express News

View all posts by LEN NEWS →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

icon

We'd like to notify you about the latest updates

You can unsubscribe from notifications anytime